अलंकार की परिभाषा और उसके भेद ,Alankar aur alankar ke bhed - www.studyandupdates.com

Saturday

अलंकार की परिभाषा और उसके भेद ,Alankar aur alankar ke bhed

अलंकार की परिभाषा और उसके भेद 

Alankar aur  alankar ke bhed

अलंकार दो शब्दों से मिलकर बना होता है – अलम + कार

अलम का अर्थ होता है ‘ आभूषण’

जिस तरह से एक नारी अपनी सुन्दरता को बढ़ाने के लिए आभूषणों को प्रयोग में लाती हैं उसी प्रकार भाषा को सुन्दर बनाने के लिए अलंकारों का प्रयोग किया जाता है। 

अथार्त जो शब्द काव्य की शोभा को बढ़ाते हैं उसे अलंकार कहते हैं


अलंकार की परिभाषा (Definition Of Alankar)



संस्कृत भाषा में अलंकार के लिए कहा गया है, किकाव्यशोभा करान धर्मानअलंकारान प्रचक्षते। इसका तात्पर्य है, कि वे शब्द जिनके आगमन से काव्य की शोभा बढ़ जाये, उन्हें अलंकार कहा जाता है
अलंकार शब्द, दो शब्दों से मिलकर बना हुआ है, अलम + कार
अलम् का अर्थ भूषण या आभूषण होता है, इस प्रकार से कहा जा सकता है, काव्य रूपी काया की शोभा बढ़ाने वाले अवयव को अलंकार कहते हैं
मानवीय जीवन के आधार पर इसको समझने का प्रयास करते है, जिस प्रकार कोई महिला अपने रूप को निखारने के लिए साज- सज्जा का प्रयोग करती है, उस साज- सज्जा में प्रयोग होने वाले तत्वों व पदार्थों को अलंकार कहा जा सकता है


उदाहरण :- ‘भूषण बिना न सोहई – कविता, बनिता मित्त।’

 अलंकार के भेद या प्रकार (Types Of Alankar)



  1. शब्दालंकार
  2. अर्थालंकार
  3. उभयालंकार




1. शब्दालंकार

शब्दालंकार दो शब्दों से मिलकर बना होता है – शब्द + अलंकार। शब्द के दो रूप होते हैं – ध्वनी और अर्थ। ध्वनि के आधार पर शब्दालंकार की सृष्टी होती है। जब अलंकार किसी विशेष शब्द की स्थिति में ही रहे और उस शब्द की जगह पर कोई और पर्यायवाची शब्द के रख देने से उस शब्द का अस्तित्व न रहे उसे शब्दालंकार कहते हैं।
अर्थार्त जिस अलंकार में शब्दों को प्रयोग करने से चमत्कार हो जाता है और उन शब्दों की जगह पर समानार्थी शब्द को रखने से वो चमत्कार समाप्त हो जाये वहाँ शब्दालंकार होता है।

शब्दालंकार के भेद :-

  1. अनुप्रास अलंकार
  2. यमक अलंकार
  3. पुनरुक्ति अलंकार
  4. विप्सा अलंकार
  5. वक्रोक्ति अलंकार
  6. शलेष अलंकार

अनुप्रास अलंकार क्या होता है :-

अनुप्रास शब्द दो शब्दों से मिलकर बना है – अनु + प्रास | यहाँ पर अनु का अर्थ है- बार-बार और प्रास का अर्थ होता है – वर्ण। जब किसी वर्ण की बार – बार आवर्ती हो तब जो चमत्कार होता है उसे अनुप्रास अलंकार कहते है।
जैसे :- जन रंजन मंजन दनुज मनुज रूप सुर भूप।
विश्व बदर इव धृत उदर जोवत सोवत सूप।।
अनुप्रास के भेद :-
  1. छेकानुप्रास अलंकार
  2. वृत्यानुप्रास अलंकार
  3. लाटानुप्रास अलंकार
  4. अन्त्यानुप्रास अलंकार
  5. श्रुत्यानुप्रास अलंकार
1. छेकानुप्रास अलंकार क्या होता है :- जहाँ पर स्वरुप और क्रम से अनेक व्यंजनों की आवृति एक बार हो वहाँ छेकानुप्रास अलंकार होता है।
जैसे :- रीझि रीझि रहसि रहसि हँसि हँसि उठै।
साँसैं भरि आँसू भरि कहत दई दई।।
2. वृत्यानुप्रास अलंकार क्या होता है :- जब एक व्यंजन की आवर्ती अनेक बार हो वहाँ वृत्यानुप्रास अलंकार कहते हैं।
जैसे :- “चामर-सी, चन्दन – सी, चंद – सी,
चाँदनी चमेली चारु चंद-सुघर है।”
3. लाटानुप्रास अलंकार क्या होता है :- जहाँ शब्द और वाक्यों की आवर्ती हो तथा प्रत्येक जगह पर अर्थ भी वही पर अन्वय करने पर भिन्नता आ जाये वहाँ लाटानुप्रास अलंकार होता है। अथार्त जब एक शब्द या वाक्य खंड की आवर्ती उसी अर्थ में हो वहाँ लाटानुप्रास अलंकार होता है।
जैसे :- तेगबहादुर, हाँ, वे ही थे गुरु-पदवी के पात्र समर्थ,
तेगबहादुर, हाँ, वे ही थे गुरु-पदवी थी जिनके अर्थ।
4. अन्त्यानुप्रास अलंकार क्या होता है :- जहाँ अंत में तुक मिलती हो वहाँ पर अन्त्यानुप्रास अलंकार होता है।
जैसे :- “लगा दी किसने आकर आग।
कहाँ था तू संशय के नाग?”
5. श्रुत्यानुप्रास अलंकार क्या होता है :- जहाँ पर कानों को मधुर लगने वाले वर्णों की आवर्ती हो उसे श्रुत्यानुप्रास अलंकार कहते है।
जैसे :- “दिनान्त था, थे दीननाथ डुबते,
सधेनु आते गृह ग्वाल बाल थे।”

2. यमक अलंकार क्या होता है :-

यमक शब्द का अर्थ होता है – दो। जब एक ही शब्द ज्यादा बार प्रयोग हो पर हर बार अर्थ अलग-अलग आये वहाँ पर यमक अलंकार होता है।
जैसे :- कनक कनक ते सौगुनी, मादकता अधिकाय।
वा खाये बौराए नर, वा पाये बौराये।

3. पुनरुक्ति अलंकार क्या है :-

पुनरुक्ति अलंकार दो शब्दों से मिलकर बना है – पुन: +उक्ति। जब कोई शब्द दो बार दोहराया जाता है वहाँ पर पुनरुक्ति अलंकार होता है।

4. विप्सा अलंकार क्या है :-

जब आदर, हर्ष, शोक, विस्मयादिबोधक आदि भावों को प्रभावशाली रूप से व्यक्त करने के लिए शब्दों की पुनरावृत्ति को ही विप्सा अलंकार कहते है।
जैसे :- मोहि-मोहि मोहन को मन भयो राधामय।
राधा मन मोहि-मोहि मोहन मयी-मयी।।

5. वक्रोक्ति अलंकार क्या है :-

जहाँ पर वक्ता के द्वारा बोले गए शब्दों का श्रोता अलग अर्थ निकाले उसे वक्रोक्ति अलंकार कहते है।
वक्रोक्ति अलंकार के भेद :-
  1. काकु वक्रोक्ति अलंकार
  2. श्लेष वक्रोक्ति अलंकार
1. काकु वक्रोक्ति अलंकार क्या है :- जब वक्ता के द्वारा बोले गये शब्दों का उसकी कंठ ध्वनी के कारण श्रोता कुछ और अर्थ निकाले वहाँ पर काकु वक्रोक्ति अलंकार होता है।
जैसे :- मैं सुकुमारि नाथ बन जोगू।
2. श्लेष वक्रोक्ति अलंकार क्या है :- जहाँ पर श्लेष की वजह से वक्ता के द्वारा बोले गए शब्दों का अलग अर्थ निकाला जाये वहाँ श्लेष वक्रोक्ति अलंकार होता है।
जैसे :- को तुम हौ इत आये कहाँ घनस्याम हौ तौ कितहूँ बरसो।
चितचोर कहावत है हम तौ तहां जाहुं जहाँ धन सरसों।।

6. श्लेष अलंकार क्या होता है :-

जहाँ पर कोई एक शब्द एक ही बार आये पर उसके अर्थ अलग अलग निकलें वहाँ पर श्लेष अलंकार होता है।
जैसे :- रहिमन पानी राखिए बिन पानी सब सून।
पानी गए न उबरै मोती मानस चून।।
अर्थ – यह दोहा रहीम जी का है जिसमें रहीम जी ने पानी को तीन अर्थों में प्रयोग किया है जिसमें पानी का पहला अर्थ आदमी या मनुष्य के संदर्भ में है जिसका मतलब विनम्रता से है क्योंकि मनुष्य में हमेशा विनम्रता होनी चाहिए। पानी का दूसरा अर्थ चमक या तेज से है जिसके बिना मोतियों का कोई मूल्य नहीं होता है। पानी का तीसरा अर्थ जल से है जिसे आटे को गूथने या जोड़ने में दिखाया गया है क्योंकि पानी के बिना आटे का अस्तित्व नम्र नहीं हो सकता है और मोती का मूल्य उसकी चमक के बिना नहीं हो सकता है उसी तरह से मनुष्य को भी अपने व्यवहार को हमेशा पानी की ही भांति विनम्र रखना चाहिए जिसके बिना उसका मूल्यह्रास होता है।
श्लेष अलंकार के भेद :
  1. अभंग श्लेष अलंकार
  2. सभंग श्लेष अलंकार
1. अभंग श्लेष अलंकार :- जिस अलंकार में शब्दों को बिना तोड़े ही एक से अधिक या अनेक अर्थ निकलते हों वहां पर अभंग श्लेष अलंकार होता है।
जैसे :- रहिमन पानी राखिए, बिन पानी सब सून।
पानी गए न ऊबरै, मोती, मानुस, चून।।
अर्थ – यह दोहा रहीम जी का है जिसमें रहीम जी ने पानी को तीन अर्थों में प्रयोग किया है जिसमें पानी का पहला अर्थ आदमी या मनुष्य के संदर्भ में है जिसका मतलब विनम्रता से है क्योंकि मनुष्य में हमेशा विनम्रता होनी चाहिए। पानी का दूसरा अर्थ चमक या तेज से है जिसके बिना मोतियों का कोई मूल्य नहीं होता है। पानी का तीसरा अर्थ जल से है जिसे आटे को गूथने या जोड़ने में दिखाया गया है क्योंकि पानी के बिना आटे का अस्तित्व नम्र नहीं हो सकता है और मोती का मूल्य उसकी चमक के बिना नहीं हो सकता है उसी तरह से मनुष्य को भी अपने व्यवहार को हमेशा पानी की ही भांति विनम्र रखना चाहिए जिसके बिना उसका मूल्यह्रास होता है।
2. सभंग श्लेष अलंकार :- जिस अलंकार में शब्दों को तोडना बहुत अधिक आवश्यक होता है क्योंकि शब्दों को तोड़े बिना उनका अर्थ न निकलता हो वहां पर सभंग श्लेष अलंकार होता है।
जैसे :- सखर सुकोमल मंजु, दोषरहित दूषण सहित।

Labels

अलंकार (4) कारक (3) वर्गमूल और घनमूल (3) 3250-2750 ईसापूर्व सिंधु घाटी सभ्यता (2) GK जीके सामान्य ज्ञान प्रश्न और उत्तर (2) अनुपात और समानुपात (2) आर्टिकल 370 (2) औसत (2) क्रिया (2) जम्मू कश्मीर और लद्दाख (2) प्रतिशत (2) भारत के प्रमुख भौगोलिक उपनाम (2) लघुत्तम समापवर्त्य और महत्तम समापवर्तक (2) लिंग (2) विटामिन (2) विश्व का भूगोल (2) संख्या प्रणाली (2) सन्धि (2) समय और काम (2) सरल ब्याज एवं चक्रवृद्धि ब्याज (2) सरलीकरण (2) सर्वनाम (2) साधारण ब्याज (2) .वाक्यांश के लिए एक शब्द (1) 100 महत्वपूर्ण विज्ञान प्रश्न (1) 2018 की खेल विजेता (1) अंतराष्ट्रीय सीमाएँ (1) अखबार ऑनलाइन pdf (1) अनुप्रास अलंकार (1) अपठित गद्यांश (1) अर्जुन अवार्ड विजेताओ की सूची (1) अर्थशास्त्र (1) अर्थालंकार (1) अविष्कार (1) अव्ययीभाव समास (1) आंकड़ों की व्याख्या (1) आकृतियों की गिनती (1) आधुनिक भारत का इतिहास (1) आधुनिक भारतीय इतिहास (1) आयतन एवं पृष्ठीय क्षेत्रफल (1) आयु आधारित प्रश्न (1) इतिहास की प्रमुख घटनाएँ : (1) उत्तर प्रदेश के कैबिनेट मंत्रियों की सूची (1) उत्प्रेक्षा अलंकार (1) उपसर्ग (1) उभयालंकार (1) ऊँची (1) कंप्यूटर (1) कपनियां और उनके CEO (Updates List) (1) कम्प्यूटर सामान्य ज्ञान (1) कला तथा संस्कृति (1) कारक विभक्ति कर्ता कर्म संबोधन (1) काल (1) कोडिंग डिकोडिंग (1) क्रिया की परिभाषा (1) क्रिया के भेद (1) क्षेत्रफल एवं परिमाप (1) खली जगह भरें (1) घड़ी और कैलेंडर (1) घन और घनमूल (1) घन और पासा (1) घातांक एवं करणी (1) घातांक और करणी (1) चक्रवृद्धि ब्याज (1) चाल (1) चाल समय और दूरी (1) चिन्ह (1) छंद (1) छंद के प्रकार (1) जल प्रतिबिंब (1) जीव विज्ञान (1) तत्सम और तद्भव शब्द (1) तार्किक आरेख (1) दिल्ली पुलिस में SI (1) दुनिया का सबसे बड़ा (1) दूरी (1) दूरी और दिशा (1) दोहा (1) नदियों के किनारे बसे शहर (1) नये केंद्र शासित प्रदेश (1) नल और टंकी (1) नेशनल पार्क (1) परिवर्तित नाम (1) पर्यायवाची (1) पर्यायवाची शब्द (1) पर्यावरण (1) पाइप और नल (1) पिछले परीक्षाओ में पूछे गए 25 किताब और उनके लेखक (1) पुराना नाम (1) प्रत्यय (1) प्रमुख क्रांतियां (1) प्रमुख युग (1) प्राचीन भारत (1) प्राचीन भारत का इतिहास (1) फसलों के उत्पादन वाले राज्य (1) बैठने की व्यवस्था (1) बौद्ध धर्म (1) भारत का भूगोल (1) भारत की कृषि (1) भारत की नदियां (1) भारत के नए नोटों और वर्तमान नोटों का रंग और पीछे वाले चित्र का विवरण (1) भारत के प्रमुख नगरों के संस्थापक (1) भारत के राज्य और राजधानियां (1) भारत के राज्यों के नाम और उसके जिले 2020 के अनुसार (1) भारतीय भूगोल (1) भारतीय राजव्यवस्था एवं संविधान (1) भारतीय राज्य और राज्य की राजधानी (1) भारतीय रेलवे ने किस साल को Year of Rail Usersघोषित किया था (1) भारतीय संविधान के महत्वपूर्ण अनुच्छेद (1) भौतिक भूगोल (1) भौतिक विज्ञान (1) मध्यकालीन भारत (1) मध्यकालीन भारत का इतिहास (1) मनोज मुकुंद नारावने (1) महत्वपूर्ण राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय दिवस (1) महत्वपूर्ण वर्ष (1) मापने वाले यंत्र (1) मिश्रण (1) मुहावरे (1) में धाराओ का मतलब (1) मैत्रेय और कपिला का घर था|(SSC Section Officer (Audit) Exam. year 1997 ) (1) यमक अलंकार (1) ये रहे फिल्मफेयर अवॉर्ड्स 2019 के विनर्स (1) रक्त संबंध (1) रचनाकार और उनकी रचनाएँ (1) रस (1) रसायन विज्ञान (1) रसायन सूत्र (1) राजस्थान पुलिस कॉन्सटेबल और सब-इंस्पेक्टर (1) राज्य के प्रथम मुख्य मंत्री (1) राज्यों के प्रमुख लोक नृत्‍य (1) राष्ट्रीय आंदोलन की महत्वपूर्ण घटनाएं (1) राष्ट्रीय उद्यान (1) राष्ट्रीय प्रतीक (1) राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवस (1) लाभ हानि और बट्टा (1) लोकोक्तियाँ (1) वचन (1) वर्ग और वर्गमूल (1) वर्गीकरण (1) वर्तनी शुद्ध (1) वाक्य संशोधन (1) विज्ञान की प्रमुख शाखाएँ एवं उनके अध्ययन विषय (1) विटामिन तथा उनके रासायनिक नाम (1) विप्सा अलंकार (1) विलोम शब्द (1) विशेषण (1) विश्व इतिहास VVI प्रश्नोत्तर (1) विश्व का इतिहास (1) विश्व के प्रमुख द्वीप (1) विश्व के प्रमुख संगठन और उनके मुख्यालय (1) विश्व में भारत की पहली रैंक (1) वीर रस (1) वैज्ञानिक नाम (1) वैदिक काल (1) शब्द व्युत्पत्ति के आधार पर शब्द-भेदरूपांतरण के आधार पर शब्द-भेद (1) शब्द-संक्षेप (1) शब्दालंकार (1) शहर और नदी (1) शिक्षा आयोग (1) शुद्ध वर्तनी (1) श्रृंखला (1) श्लेष अलंकार (1) संख्या और अक्षर परीक्षण (1) संख्या के आधार पर प्रश्न (1) संज्ञा (1) संयुक्त राष्ट्र संघ (1) समय (1) समस्या को सुलझाना (1) समाज और उसके संस्थापक (1) समास (1) समास ( वस्तुनिष्ठ प्रश्न) (1) समास का शाब्दिक अर्थ होता है - (1) समास किसे कहते हैं ? (1) सरल और दशमलव भिन्न (1) साझेदारी (1) सादृश्य (1) सामान्य ज्ञान (1) सिंधु घाटी (1) सिंधु घाटी सभ्यता अपने शुरुआती काल में (1) स्वतंत्रता संघर्ष पे आधारित प्रश्न (1) हिंदी - CISF हिंदी अभ्यास सेट (1) हिंदी साहित्यिक महत्वपूर्ण प्रश्न (1) हिन्दी (1) हिन्दी important question (1) हिन्दी में प्रयुक्त कुछ तत्सम शब्दों के तद्भव रूप तत्सम तद्भव (1)

Recent PDF Search links, Click here to download

Popular Posts